1.2 समाजवाद

Indian economy भारतीय अर्थव्यवस्था राज्य लोक सेवा आयोग संघ लोक सेवा आयोग
  1. समाजवाद का आंसर समाज के एक आर्थिक संगठन से है जिसमें उत्पादन के भौतिक साधन पर संपूर्ण समुदाय का स्वामित्व होता है यह आर्थिक संगठन समुदाय के प्रति उत्तरदाई होता है एवं उनके प्रतिनिधि निकायों द्वारा संचालित होते हैं समान अधिकारों के आधार पर समुदाय के सभी सदस्यों को इस प्रकार के सामाजिक योजनाबद्ध उत्पादन से प्राप्त परिणामों पर समान अधिकार होता है।
  2. सरल शब्दों में समाजवाद से है – उत्पादन के साधनों पर सामाजिक स्वामित्व, आय की समानता और सभी के लिए अवसर। इसका अर्थ यह नहीं है कि सभी उत्पादक संसाधनों पर राज्य का स्वामित्व हो।केवल उत्पादन के प्रमुख साधन राज्य नियंत्रण के अधीन होने चाहिए ताकि निजी लाभ की अपेक्षा अर्थव्यवस्था का संचालन सामाजिक लाभ के लिए किया जा सके।

1.2.1 समाजवाद की सामान्य विशेषताएं :

  1. उत्पादन के साधनों पर सामाजिक स्वामित्व
  2. निजी उद्यम ना होना
  3. आर्थिक समानता
  4. अवसर की समानता
  5. आर्थिक नियोजन
  6. सामाजिक कल्याण और सामाजिक सुरक्षा
  7. वर्ग विहीन समाज

1.2.2 समाजवाद के लाभ :

  1. सामाजिक न्याय
  2. संसाधनों का बेहतर आवंटन
  3. त्वरित आर्थिक समृद्धि
  4. उत्पादक दक्षता में सुधार
  5. सामाजिक सुरक्षा एवं कल्याण
  6. आर्थिक स्थिरता

1.2.3 समाजवाद की हानियां :

  1. नौकरशाही और लालफीताशाही
  2. व्यवसाय के लिए अनुपयुक्त
  3. संसाधनों का अनुचित आवंटन
  4. उपभोक्ता की संप्रभुता को क्षति
  5. प्रोत्साहन का अभाव
  6. आर्थिक स्वतंत्रता का ना होना
  7. राज्य में सत्ता का संकेंद्रण
  8. निजी स्वतंत्रता की क्षति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *