2.1.1 सांकेतिक GDP एवम वास्तविक GDP

Indian economy भारतीय अर्थव्यवस्था राज्य लोक सेवा आयोग संघ लोक सेवा आयोग
  1. सांकेतिक GDP: जब वस्तुओ एवम सेवाओं के मूल्य की गड़ना चालू वर्ष की कीमतों पर (Current year prices) की जाती है तो वह चालू मूल्य पर सकल घरेलू उत्पाअर्थात सांकेतिक GDP कहलाता है ।
  2. वास्तविक (Real) GDP : जब वस्तु एवं सेवाओं के मूल्य की गणना आधार वर्ष की कीमतों पर की जाती है, तो उसे स्थिर मूल्य पर सकल घरेलू उत्पाद अथवा वास्तविक GDP कहते हैं। अर्थात वास्तविक जीडीपी द्वारा वर्तमान वर्ष में उत्पादित वस्तुओं एवं सेवाओं के मूल्यों की गणना आधार वर्ष की कीमतों पर की जाती है उल्लेखनीय है कि आधार वर्ष पर मूल्य स्थिर होते हैं ।
  3. वास्तविक GDP वस्तुतः GDP की गड़ना करने का एक बेहतर तरीका है क्योंकि एक विशेष वर्ष में अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति की उच्च दर के कारण GDP में अचानक उछाल देखा जा सकता है। इसलिए वास्तविक GDP हमें मुद्रास्फीति और मुद्रा की क्रय शक्ति में परिवर्तन के बावजूद उत्पादन में हुई वास्तविक वृद्धि या कमी को निर्धारित करने में मदद करता है।
  4. इसे बेहतर तरीके से समझने के लिए आप एक ऐसी अर्थव्यवस्था पर विचार कीजिए जो केवल सेब का उत्पादन करती है मान लीजिए कि वर्ष 2010 के दौरान एक अर्थव्यवस्था में 100 से उत्पादित हुए थे और प्रत्येक वर्ष सेव की लागत $1 थी इस प्रकार वर्ष 2010 में उक्त अर्थव्यवस्था का सांकेतिक GDP $100 होगी। मान लीजिए कि 5 वर्षों के बाद सेब का उत्पादन 1 वर्ष में 50 सेव तक घट गया। हालांकि कीमतें 3 डॉलर तक बढ़ गई। वर्ष 2015 के लिए सांकेतिक जीडीपी $150 होगा। इस प्रकार हमें यह प्रतीत होता है कि 2010 की तुलना में 2015 में जीडीपी में वृद्धि हुई है परंतु वास्तव में 2015 के दौरान अर्थव्यवस्था में उत्पादन की कमी आई है।
  5. अब यदि वर्ष 2010 को आधार वर्ष के रूप में मान लिया जाए तो वर्ष 2010 के लिए वास्तविक जीडीपी $100 हो जाएगी जबकि वर्ष 2015 के लिए 2010 की स्थिर कीमतों पर (आधार वर्ष की कीमत पर) 50 डॉलर होगी। इस प्रकार स्पष्ट है कि यहां वास्तविक GDP में गिरावट अर्थव्यवस्था में उत्पादन में गिरावट के अनुपात में है। अतः वास्तविक GDP किसी भी अर्थव्यवस्था की सांकेतिक GDP की तुलना में एक बेहतर तस्वीर प्रस्तुत करता हैं। (आधार वर्ष को आगे विस्तार से समझाया गया है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *