3.3.1 राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना (NHDP)

Indian economy भारतीय अर्थव्यवस्था राज्य लोक सेवा आयोग संघ लोक सेवा आयोग

NHDP को निम्नलिखित 7 चरणों में लागू किया जा रहा है:

  1. स्वर्णिम चतुर्भुज तथा उत्तर-दक्षिण और पूर्व-पश्चिम कॉरिडोर (NHDP I aur II) को 4 लेन करना
  2. 12,109 किमी का उन्नयन (NHDP III)
  3. 20,000 किमी सड़क को दोहरी लेन वाला करने का प्रस्ताव (NHDP-IV)
  4. 6,50P किमी सड़कों को 6 लेन करने का प्रस्ताव (NHDP-V)
  5. 1000 किमी एक्सप्रेसवे का विकास (NHDP-VI)
  6. 700 किमी की अन्य राजमार्ग परियोजनाओं का विकास जिसमे रिंग रोड, सर्विस रोड आदि शामिल है। (NHDP-VII)

NHDP के तहत प्रगति अनुमान की तुलना में कुछ हद तक धीमी है। इसके कार्यान्वयन में कुछ प्रमुख बाधाएं है:

  1. अनुबंध प्रदान करने में देरी
  2. भूमि अधिग्रहण में कठिनाइयां
  3. पर्यावरण मंजूरी में विलम्ब
  4. निर्माण क्षमता में कमी
  5. 2012 की एक रिपोर्ट में, विश्व बैंक ने भारतीय कांट्रेक्टरो में धोखाधड़ी और भ्रष्ट आचरण की उपस्थिति का आरोप लगाया था।

सुझाव:

  1. NHDP के चरणों के भीतर, एकल लेन की सड़कों को दो लेन करने से संबंधित कार्यक्रम को ऊर्जा दक्षता और सुरक्षा बढ़ाने की दृष्टि से तीव्रता से संपादित करना।
  2. सभी मौजूदा 4 लेन और 6 लेन की सड़कों में स्थानीय यातायात के लिए सेवा लेन के त्वरित निर्माण से ऊर्जा दक्षता बधाई जा सकती है और परिवहन को तीव्र किया जा सकता है। इन सड़कों के वित्तपोषण के लिए टोल के रूप में यूजर चार्ज प्रिंसिपल लागू होना चाहिए और मौजूदा सेंट्रल रोड फंड को पेट्रोल और डीजल पर अतिरिक्त लेवी के माध्यम से जारी रखना चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *