माउंट सेमरू ज्वालामुखी

Geography भारत एवं विश्व का भूगोल राज्य लोक सेवा आयोग संघ लोक सेवा आयोग

हाल ही में इंडोनेशिया स्थित माउंट सेमरू ज्वालामुखी (Semeru Volcano) में विस्फोट हुआ जिसमें कम-से-कम 14 लोगों की मृत्यु हो गई और दर्जनों लोग घायल हो गए।

  • इसमें अंतिम बार दिसंबर, 2020 में विस्फोट हुआ था।

प्रमुख बिंदु

सेमरू ज्वालामुखी के बारे में:

  • सेमरू- जिसे “द ग्रेट माउंटेन” के रूप में भी जाना जाता है जावा का सबसे उच्चतम ज्वालामुखी शिखर है तथा सर्वाधिक सक्रिय ज्वालामुखियों में से एक है।
  • सेमरू ज्वालामुखी भी सूंडा प्लेट (यूरेशियन प्लेट का हिस्सा) के नीचे स्थित इंडो-ऑस्ट्रेलियाई प्लेट के उप-भाग के रूप में निर्मित द्वीपीय चाप (Island Arcs) का हिस्सा है।
  • यहांँ निर्मित खाई को सुंडा खाई के नाम से जाना है, जावा खाई (Java Trench) इसका प्रमुख खंड/भाग है।

इंडोनेशिया में ज्वालामुखी:

  • इंडोनेशिया में विश्व के सक्रिय ज्वालामुखियों की सर्वाधिक संख्या होने के साथ-साथ इसके पैसिफिक रिंग ऑफ फायर (Pacific’s Ring of Fire) में अवस्थित होने के कारण यहाँ भूकंपीय उथल-पुथल का खतरा भी बना रहता है।

पैसिफिक रिंग ऑफ फायर:

  • रिंग ऑफ फायर, जिसे सर्कम-पैसिफिक बेल्ट (Circum-Pacific Belt) के रूप में भी जाना जाता है, सक्रिय ज्वालामुखियों और लगातार आने वाले भूकंपों के कारण प्रशांत महासागर में निर्मित एक मार्ग है।
  • इसकी लंबाई लगभग 40,000 किलोमीटर है। यह प्रशांत (Pacific), कोकोस (Cocos), भारतीय-ऑस्ट्रेलियाई (Indian-Australian), नाज़का (Nazca), उत्तरी अमेरिकी (North American) और फिलीपीन प्लेट्स (Philippine Plates) सहित कई टेक्टोनिक प्लेटों के मध्य एक सीमा का निर्धारण करती है।
  • पृथ्वी के 75% ज्वालामुखी यानी 450 से अधिक ज्वालामुखी रिंग ऑफ फायर के किनारे स्थित हैं। पृथ्वी के 90% भूकंप इसके क्षेत्र में आते हैं, जिसमें पृथ्वी की सबसे हिंसक और नाटकीय भूकंपीय घटनाएंँ शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *