3. राष्ट्रीय आय को प्रभावित करने वाले कारक

Indian economy भारतीय अर्थव्यवस्था राज्य लोक सेवा आयोग संघ लोक सेवा आयोग

कई ऐसे कारक हैं जो किसी देश की राष्ट्रीय आय को प्रभावित करते हैं उनमें से कुछ निम्नलिखित हैं-

  1. उत्पादन के कारक (Factor Of Production) : सामान्यतया जब संसाधन अधिक कुशल और समृद्ध होंगे तो निश्चय ही राष्ट्रीय आय या GNP का स्तर उच्चतर होगा।
  2. भूमि (Land): भारी उद्योगों के लिए कोयला और लकड़ी जैसे संसाधनों की उपलब्धता एवं उन तक पहुंच आवश्यक है।दूसरे शब्दों में इन प्राकृतिक संसाधनों की भौगोलिक GNP के स्तर को प्रभावित करती है।
  3. पूंजी (Capital) : पूंजी आमतौर पर निवेश द्वारा निर्धारित होती है। यह अलग बात है कि निवेश अन्य कारकों पर निर्भर करता है जैसे लाभप्रदता,राजनीतिक स्थिरता आदि।
  4. श्रम और उद्यमिता (Labour and Entrepreneur): अधिक महत्वपूर्ण मानव संसाधन की गुणवत्ता उत्पादकता है। श्रम शक्ति नियोजन और शिक्षा अर्थव्यवस्था की उत्पादकता और उत्पादन क्षमता को प्रभावित करती है।
  5. प्रोद्योगिकी (Technology): अल्प प्राकृतिक संसाधनों वाले देशों के लिए यह कारक अधिक महत्वपूर्ण है। प्रोद्योगिकी के क्षेत्र में हुए या होने वाले विकास और नवाचार के स्तर से राष्ट्रीय आय का स्तर प्रभावित होता है।
  6. सरकार (Government): सरकार निवेश हेतु अनुकूल कारोबारी परिवेश प्रदान करने में मदद कर सकती है। यह कानून व्यवस्था विनियमन आदि उपलब्ध कराती है।
  7. राजनीतिक स्थिरता (Political stability): एक स्थिर अर्थव्यवस्था और राजनीतिक व्यवस्था संसाधनों की उचित आवंटन में मदद करती है। हम लोग और सामाजिक असंतुलन से निवेश और व्यावसायिक गतिविधियां हतोत्साहित होती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *