संविधान के स्त्रोत का परिचय

प्रस्तावना बताती है कि संविधान के स्त्रोत भारत के लोग अर्थात भारत की जनता है। प्रस्तावना की शुरुआत में ही प्रयुक्त वाक्यांश ‘हम भारत के लोग’ इस प्रयोजन की पूर्ति करता हैं यह वाक्यांश भारतीय राजव्यवस्था के लोकतांत्रिक पक्ष को भी प्रस्तुत करता है। ध्यातव्य है कि इस बात पर कुछ विवाद है कि क्या […]

Continue Reading

1784 का पिट्स इंडिया एक्ट ( Pitt’s India Act of 1784)

एक्ट ऑफ सेटलमेंट, 1781 के पारित होने के बाद भी कंपनी के प्रबंधन में सुधार न होने के कारण 1783 में फॉक्स ने कुप्रशासन को समाप्त करने के लिए एक विधेयक संसद में प्रस्तुत किया, जिसमे दो पृथक निकाय बनाने का सुझाव दिया गया – सात आयुक्तों का बोर्ड उपनिदेशकों का बोर्ड यह विधेयक हाउस […]

Continue Reading