2.2.1 विदेशों से प्राप्त निवल साधन (कारक) आय (Net Factor Income from Abroad: NFIA)

Indian economy भारतीय अर्थव्यवस्था राज्य लोक सेवा आयोग संघ लोक सेवा आयोग
  1. विदेश से प्राप्त निवल साधन आय(NFIA) वस्तुतः एक देश के नागरिकों और कंपनियों द्वारा विदेशों से प्राप्त कुल आय और उस देश में विदेशी नागरिकों और विदेशी कंपनियों द्वारा अर्जित कुल राशि के मध्य का अंतर है।

संक्षेप में, NFIA = GNP-GDP

हालांकि वर्तमान समय में अधिकांश देशों की NFIA बहुत ही कम है क्योंकि नागरिकों द्वारा सृजित (विदेशों से) साधन आय और विदेशियों को दिए जाने वाले भुगतान कमोबेश एक दूसरे को प्रतिसंतुलित कर देते हैं।

2.3 GDP वैश्विक स्तर पर सबसे स्वीकार्य संकेतक क्यों है?

  1. GDP समृद्धि दर (आर्थिक समृद्धि का मापक) वस्तुतः किसी राष्ट्र के कल्याणकारी गतिविधियों हेतु एक प्रमुख संकेतक होती है साथ ही यह ‘विकास’ के कई अन्य मां को जैसे साक्षरता स्वास्थ्य सुविधाएं आदि संकेत को से भी संबंधित होता है।
  2. वर्तमान में यह स्पष्टतया परिभाषित है और इसकी गणना करना अपेक्षाकृत सरल है।
  3. चूंकि यह एक मौद्रिक/गणितीय/लेखा गणना है और इसकी एक स्थापित पद्धति भी विद्यमान है,अतः यह वस्तुनिष्ठ है {इसके विपरीत खुशहाली(happiness) और राजनीतिक स्वतंत्रता(Political freedom) जैसे सूचक व्यक्तिनिष्ठ हैं जिन्हें मापना कठिन है।}
  4. GDP का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है लगभग सभी देश अपने राष्ट्रीय आय की गणना में सी पद्धति का उपयोग करते हैं। अतः इसके माध्यम से विभिन्न देशों के मध्य तुलना करने में भी सुविधा होती है।
  5. बृहद इतिहास और मानक पद्धति के कारण GDP को नीति निर्माताओं द्वारा समझना अपेक्षाकृत आसान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *