2.11 व्यक्तिगत प्रयोज्य आय

Indian economy भारतीय अर्थव्यवस्था राज्य लोक सेवा आयोग संघ लोक सेवा आयोग
  1. व्यक्तिगत प्रयोज्य (व्यय योग्य) आय से आशय किसी व्यक्ति के पास उपलब्ध वास्तविक व्यय योग्य राशि से है।इसका अर्थ व्यक्तिगत रूप से भुगतान किए गए करों, जैसे- आय कर, संपत्ति कर, प्रोफेशनल टैक्स आदि के भुगतान के बाद व्यक्ति के पास बची हुई राशि से है।

इस प्रकार,

व्यक्तिगत प्रयोज्य आय = व्यक्तिगत आय – व्यक्तिगत कर

  1. यह अवधारणा व्यक्तियों के व्यय और बचत व्यवहार को जानने और समझने के लिए बहुत ही उपयोगी है यह वह राशि है जिसको खर्च किया जा सकता है।

अभी तक हमने राष्ट्रीय आय के निम्नलिखित मापकों की चर्चा की है:

  1. राष्ट्रीय आय = साधन लागत पर NNP
  2. साधन लागत पर NNP = बाजार मूल्य पर NNP -निवल अप्रत्यक्ष कर
  3. साधन लागत पर NDP = बाजार मूल्य पर NDP – निवल अप्रत्यक्ष कर
  4. निवल अप्रत्यक्ष कर (NIT) = अप्रत्यक्ष कर – सब्सिडी
  5. NNP = GNP – मूल्यह्रास
  6. NDP = GDP – मूल्यह्रास
  7. GNP = GDP + विदेशों से प्राप्त निवल साधन आय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *