स्तूपों का उद्भव एवम विकास

स्तूप की चर्चा सर्वप्रथम ऋग्वेद में प्राप्त होती है। बौद्ध परंपरा (महापरिनिर्वाण सूत) के अनुसार बुद्ध के पूर्व चक्रवर्ती राजाओं एवम संतो के लिए स्तूप बनवाए जाते थे। गतपथ ब्राम्हण में भी इसकी चर्चा मिलती है। बौद्ध परंपराओं में इसका विकास बुद्ध की मृत्यु के बाद किया गया जिसे चार चरणों में बांटकर देखा जा […]

Continue Reading

स्तूपों के प्रकार

स्तूप मुख्य रूप से 4 प्रकार के होते है – शारीकिक स्तूप : बुद्ध या किसी संत के शारीरिक अवशेषों पर बना। परिभोगिक स्तूप : संतों/ आचार्यों द्वारा उपभोग की गई वस्तुओं पर बना। उद्देश्यिक स्तूप : बौद्ध धर्म के प्रचार के उद्देश्य से बना। पूजार्थक स्तूप : पूजा के उद्देश्य से बना। स्तूपों का […]

Continue Reading

भारतीय कलाएं

स्थापत्य कला / वास्तुकला : प्राचीन भारतीय – i) स्तूप, ii) मंदिर, iii) चैत्य एवम विहार मध्यकालीन भारतीय – मिनार, मेहराब, गुम्बद, मकबरा, मस्जिद आधुनिक भारतीय – i) Ned classical शैली, ii) गोथिक शैली, iii) सारसेनिक प्राचीन भारतीय स्थापत्य स्तूप स्थापत्य – 1) संकल्पना एवम बनावट 2) प्रकार 3) दर्शन 4) विकास के चरण 5) […]

Continue Reading