भारत में अंग्रेजों का आगमन

1588 ईसवी में स्पेनिश आरमेडा पर अंग्रेजों की जीत के बाद देश की वाणिज्यिक गतिविधियों में से जुड़े लोग और व्यापारी “ईस्ट इंडीज” के साथ प्रत्यक्ष व्यापार करने के बारे में सोचने लगे। 1599 में लॉर्ड मेयर की अध्यक्षता में एक प्रस्ताव पारित किया गया था इस प्रस्ताव में भारत के साथ सीधे व्यापार करने […]

Continue Reading

यूरोप वासियों का आगमन

डच पुर्तगालियों के बाद डच भारत आए । ये नीदरलैंड या हॉलैंड के निवासी थे। 1592 ईस्वी में ईस्ट इंडीज के साथ व्यापार करने के लिए डच ईस्ट इंडिया कंपनी बनाई गई। कार्नेलियस हाउट मैन भारत आने वाले पहले डच थे। डचों ने तमिलनाडु में नागपट्टनम आंध्र प्रदेश में मछलीपट्टनम बंगाल में चिनसुरा और मालाबार […]

Continue Reading

लोकतांत्रिक

इसका अर्थ है कि भारतीय राज्य व्यवस्था शासन के जिस प्रकार को स्वीकार करती है वह लोकतंत्र है, ना कि राजतंत्र, अधिनायकतंत्र या कुछ और। इसका अर्थ है कि भारत का शासन भारत की जनता द्वारा ही चलाया जाता है। जो कि भारत का क्षेत्रफल और जनसंख्या बहुत अधिक है स्वभाविक है क्या प्रत्यक्ष लोकतंत्र […]

Continue Reading

पंथनिरपेक्ष

पंथ निरपेक्ष राज्य तीन तरह के राज्यों से अलग होता है। प्रथमतः वह भूतपूर्व सोवियत संघ जैसे उन साम्यवादी राज्यों से अलग होता है जो धर्म विरोधी होते हैं और अपने नागरिकों को धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार नहीं देते। दूसरे वह वेटिकन सिटी जैसे उन धर्म 3 राज्यों से अलग होता है जिनमें धर्म का […]

Continue Reading

भारतीय राजव्यवस्था की प्रकृति का परिचय

प्रस्तावना बताती है कि भारतीय राजव्यवस्था की प्रकृति क्या है? इसे स्पष्ट करने के लिए प्रस्तावना के निम्नलिखित 5 शब्द विशेष महत्व के हैं : संपूर्ण प्रभुत्व संपन्न: इसका अर्थ है कि भारत अपने आंतरिक और विदेश संबंधी मामलों में कोई भी स्वतंत्र निर्णय लेने की ताकत रखता है वह किसी भी अन्य विदेशी सत्ता […]

Continue Reading

संविधान के स्त्रोत का परिचय

प्रस्तावना बताती है कि संविधान के स्त्रोत भारत के लोग अर्थात भारत की जनता है। प्रस्तावना की शुरुआत में ही प्रयुक्त वाक्यांश ‘हम भारत के लोग’ इस प्रयोजन की पूर्ति करता हैं यह वाक्यांश भारतीय राजव्यवस्था के लोकतांत्रिक पक्ष को भी प्रस्तुत करता है। ध्यातव्य है कि इस बात पर कुछ विवाद है कि क्या […]

Continue Reading

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स 2021

हाल ही में लंदन स्थित ‘हेनले एंड पासपोर्ट’ ने हेलने पासपोर्ट इंडेक्स 2021 जारी किया। भारत को 90वे पायदान पर जगह मिली है। भारत की रैंकिंग में 6 स्थानों की गिरावट आई है, पिछले साल भारत को 84वे स्थान पर जगह मिली थी। भारत के पासपोर्ट के साथ 58 देशों में वीजा फ्री यात्रा की […]

Continue Reading

1.2 समाजवाद

समाजवाद का आंसर समाज के एक आर्थिक संगठन से है जिसमें उत्पादन के भौतिक साधन पर संपूर्ण समुदाय का स्वामित्व होता है यह आर्थिक संगठन समुदाय के प्रति उत्तरदाई होता है एवं उनके प्रतिनिधि निकायों द्वारा संचालित होते हैं समान अधिकारों के आधार पर समुदाय के सभी सदस्यों को इस प्रकार के सामाजिक योजनाबद्ध उत्पादन […]

Continue Reading

1. आर्थिक प्रणालियां

वर्तमान में किसी भी राष्ट्र की अर्थव्यवस्था को पूर्णतः पूंजीवादी अर्थव्यवस्था अथवा पूर्णता समाजवादी अर्थव्यवस्था की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता हालांकि वर्गीकरण के उद्देश्य विभिन्न आर्थिक प्रणाली को निम्नलिखित वर्गों में विभक्त किया जा सकता है – 1.1 पूंजीवाद पूंजीवाद के अंतर्गत सभी कृषि क्षेत्रों कारखानों एवं उत्पादन के अन्य साधनों पर निजी […]

Continue Reading

विकास ले लिए ज्ञान

विगत 5 दशकों में एशिया के दिन अग्रणी देशों ने ज्ञानार्जन तथा ज्ञान सृजन में निवेश उन्होंने अन्य देशों के मुकाबले अधिक तेजी से प्रगति की ओर उनके अनुभवों से यह सीखना जरूरी है कि हमें ज्ञान का सृजन अर्जुन संयोजन तथा प्रसार में निवेश करना चाहिए ताकि सामाजिक स्थितियों में सुधार और आर्थिक गतिविधियां […]

Continue Reading