3.3.1 राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना (NHDP)

NHDP को निम्नलिखित 7 चरणों में लागू किया जा रहा है: स्वर्णिम चतुर्भुज तथा उत्तर-दक्षिण और पूर्व-पश्चिम कॉरिडोर (NHDP I aur II) को 4 लेन करना 12,109 किमी का उन्नयन (NHDP III) 20,000 किमी सड़क को दोहरी लेन वाला करने का प्रस्ताव (NHDP-IV) 6,50P किमी सड़कों को 6 लेन करने का प्रस्ताव (NHDP-V) 1000 किमी […]

Continue Reading

3.3 सरकारी पहलें

2016-17 में राष्ट्रीय राजमार्गों के लिए निर्धारित लक्ष्य 15,000 किमी में से फरवरी 2017 के अंत तक कुल 6604 किमी निर्मित किया जा चुका है। हाल ही में हुए कुछ नवीनतम विकास कार्य इस प्रकार है : 2017 में भारत में परिवहन अवसंरचना क्षेत्र लगभग 6.1% वास्तविक दर से बढ़ी है तथा इसके 2021 तक […]

Continue Reading

वर्ण व्यवस्था (Varna System)

किसी भी समाज के व्यवस्थित संचालन हेतु आवश्यक माना जाता है कि समाजिक कार्यों का विभाजन व्यक्ति की योगिता, प्रकृति, प्रवृत्ति एवं उसके गुण व कर्मो के आधार पर किया जाए। व्यक्ति की कार्य क्षमता के आधार पर कर्म विभाजन करने को वर्ण व्यवस्था कहा जाता है। साधारण शब्दों मे इसे विवेचित कर सकते हैं- […]

Continue Reading

क्षेत्रीय शक्तियों का उदय

2.2.2( अवध ) अवध प्रांत पश्चिम में कन्नौज जिले से पूर्व में कर्मनाशा नदी तक विस्तृत था। 1722 शआदत खा को सूबेदार नियुक्त किए जाने के साथ ही अवध लगभग स्वतंत्र हो गया था। वह आराजकता समाप्त करने और बड़े जमींदारों को अनुशासित करने में सफल रहा। उसने एक नई राजस्व व्यवस्था भी लागू की […]

Continue Reading

3.3 आर्थिक विकास की महालनोबिस रणनीति

हमारे देश में नियोजित आर्थिक विकास के लिए अपनाई जाने वाली उचित रणनीति को लेकर मतभेद की स्थिति रही है। ऐसे में पहली पंचवर्षीय योजना बिना किसी स्पष्ट रणनीति के समाप्त हो गई। हालांकि दूसरी योजना के दौरान प्रो. पी.सी. महलानोबिस ने एक विकास मॉडल तैयार किया। इस मॉडल में उन्होंने दर्शाया कि भारत को […]

Continue Reading

2. क्षेत्रीय शक्तियों का उदय

2.1 पृष्ठभूमि 1761 तक , मुगल साम्राज्य केवल नाम मात्र के लिए साम्राज्य रह गया था, क्योंकि इसकी कमजोरियों ने स्थानीय शक्तियों को स्वतंत्र होने का अवसर प्रदान किया।फिर भी , मुगल सम्राट की प्रतीकात्मक सत्ता बनी रही, क्योंकि उन्हें अभी भी राजनीतिक वैधता का स्त्रोत माना जाता था। नए राज्यों ने प्रत्यक्ष रुप से […]

Continue Reading

3.2 श्रम की असीमित आपूर्ति के साथ आर्थिक विकास का लुइस मॉडल

लुइस ने श्रम की असीमित आपूर्ति के उपयोग के माध्यम से आर्थिक विकास का एक सिद्धांत प्रस्तुत किया। अल्प विकसित देशों में सामान्यतः निर्वाह वेतन पर श्रम की असीमित आपूर्ति उपलब्ध होती है। श्रम की यह असीमित आपूर्ति अधिशेष कृषि श्रम, अनौपचारिक श्रम, घरेलू नौकर, परिवारों में महिलाओं आदि के रूप में होती है। लुइस […]

Continue Reading

मुगलों के पतन के क्या परिणाम हुए

ब्रिटिश शासन के लिए भारत के द्वार खुल गए। भारतीयों को एक सूत्र में बांधने वाली कोई प्रणाली नहीं रही। ऐसी कोई ताकत नहीं रही जो पश्चिम से आने वाली शक्तियों से लड़ सके। स्थानीय राजनीतिक और आर्थिक शक्तियां अपने प्रभाव क्षेत्र का विस्तार करने लगी। कई रियासतें स्वतंत्र हो गई, जैसे कि बंगाल, अवध […]

Continue Reading

3. नियोजन प्रक्रिया में प्रयुक्त मॉडल (Models used in the Planning Process)

3.1 हैरोड-डोमर विकास मॉडल हैरोड और डोमर ने निवेश एवम मांग की गतिशील प्रकृति का विश्लेषण किया तथा यह प्रदर्शित किया कि किस प्रकार पूंजी तथा मांग में भिन्नताएं आर्थिक वृद्धि में अस्थिरता हेतु उत्तरदायी थीं। आर्थिक विकास के मुख्य निर्धारक है : प्राकृतिक संसाधन, तकनीकी प्रगति, जनसंख्या वृद्धि इत्यादि। आर्थिक विकास के ये निर्धारक […]

Continue Reading

2. आर्थिक विकास (Economic Development)

यद्यपि कुछ विशेषज्ञों द्वारा आर्थिक विकास को आर्थिक संवृद्धि और आर्थिक प्रगति से भिन्न अर्थों में परिभाषित किया जाता है, तथापि इस विषय की समझ विकसित करने हेतु हम इन शब्दों को समानार्थी मान सकते है। इस प्रकार हम आर्थिक विकास की परिभाषा को प्रति व्यक्ति आय पर आधारित कर सकते हैं। हम यह भी […]

Continue Reading